Friday, December 25, 2009

काँटों पर चलने वाली हूँ

काँटों पर चलने वाली हूँ फूलो की सय्या क्या जानू

जब अपनों को ही भूल गई मैं भूल भुलायिया क्या जानू

ये धरती मेरा बिस्तर है और अम्बर मेरी चादर है

मैं खेल रही तूफानों से मेरा अपना जीवन पतझड़ है

टुकड़ों पर पलने वाली हूँ मैं दुध मलाई क्या जानू............ ..

वो चंचल हवाएं, वो काली घटाएं,

वो चंचल हवाएं,
वो काली घटाएं,
वो नीला आसमान,
वो सतरंगी जहाँ,
हर्षाता है मेरे मन को,
जब कभी खो जाता है मेरा मन,
वो वापस बुलाता है मुझको,
वो महकी बगिया,
वो महका चमन,
वो खिली कलियाँ,
वो खिला बदन,
जब भी निराश होती हूँ,
समझाते हैं मुझको,
कि खोकर अपना सब कुछ हम देते हैं खुशियाँ जहाँ को,
बिना कुछ लिए,
तब फिर तू इतनी निराश है क्यूँ,
जबकि तू पा चुकी है सब कुछ,
अपनी चंचलता में जियो,
न हो उदास, न किसी को होने दो,
मेरे मन की चंचलता............
.
.
.
.
.
.
.

Wo chanchal havayen,
Wo kali ghatayen,
Wo nila asman,
Wo satrangi jahan,
Harshata hai mere man ko,
Jab kabhi kho jata hai mera man,
Wo vapas bulata hai mujhko,
Wo mehki bagiya,
Wo mehka chaman,
Wo khili kaliyan,
Wo khila badan,
Jab bhi nirash hoti hun,
Samjhate hain mujhko,
Ki khokar apna sab kuchh ham dete hain khushiyan jahan ko,
Bina kuchh liye,
Tab phir tu itni nirash hai kyun,
Jabki tu pa chuki hai sab kuchh,
Apni chanchalta men jiyo,
Na ho udas, na kisi ko hone do,
Mere man ki chanchalta.. ......... .

वक्त तो आता है निकल जाता है

वक्त तो आता है निकल जाता है
कई लम्हों, कई ख्वाबों को निगल जाता है
जिन पलों को जीते हैं बनती यादें
बहुत कुछ सोचने से वक्त बहल जाता है
आप भी तो थे मेरी चाहत में मगर
यही चाहत लिए हर साल बदल जाता है
वक्त के इन रंगीन काफिलों की बिदाई
वक्त ऑखों में गड़ाई सा मचल जाता है
शुक्रिया आपका जिसने मुझे कुछ वक्त दिया
वरना अकेले तो सूरज भी ढल जाता है.

Waqt to ataa hai nikal jata hai
Kai lamhon, kai khwabon ko nigal jata hai
Jin palon ko jite hain banti yadein
Bahut kuchch sochane se waqt badal jata hai
Aap bhi to the meri chahat mein magar
Yahi chahat liye har saal badal jata hai
Waqt ke een rageen kafilon ko bidayi
Waqt aankhon mein angdayi sa machal jata hai
Shukriya aapka jisne mujhe kuchch waqt diya
Warna akele to suraj bhi dhal jata hai.

Jiss jagha teri jafa ki inteha ho jayegi


Jiss jagha teri jafa ki inteha ho jayegi
Sabr ki mere wahan se ibteda ho jayegi

Kya khabar thi zindagi ab to dua ho jayegi
Unkey paney ki tamanna ilteja ho jayegi

Ye kahan maloom tha qasd e safar k sath hi
Tum badal jaogey dunya be wafa ho jayegi




मेरी आँखों से तेरी आँखों तक

मेरी आँखों से तेरी आँखों तक
प्यार की जब हो गुपचुप बात
होठ सिले हों, आँखें नम हो
मौसम बजा रहा हो साज
दूर कही शहनाई बजे और
बागों में खिल उठे गुलाब
स्पर्श तुम्हारा बजे तरंग बन
दूर कहीं जलती हो आग,
एक दूजे को जाने हम जब
मूक हमारे हो संवाद.......




Meri ankhon se teri ankhon tak
Pyar ki jab ho gupchup bat
Honth sile hon, ankhen nam ho
Mausam baja raha ho saz
Door kahin shahnai baje aur
Bagon mein khil uthe gulab
Sparsh tumhara baje tarang ban
Door kahin jalti ho aag,
Ek duje ko jane ham jab
Mook hamare ho samvad.........

यादों के सैलाबों में डूब जाना याद है ,

यादों के सैलाबों में डूब जाना याद है ,
छोटी छोटी बातों का सुनना सुनाना याद है ,
पतझड़ में भी लगता था मौसम बहारों का ,
तुम्हारे इंतजार में वक़्त बिताना याद है ..!!


थकती नहीं थीं आँखें देख देख रास्ता ,
नए बहाने बनाके देर से तुम्हारा आना याद है ,
खुशबू में हवा की ढूँढना तुम्हारी महक ,
बारिश की बूंदों में अपने आँसू मिलना याद है ..!!


कभी साथ बैठे बैठे युहीं वक़्त बिता देना ,
कभी मेरी हर बात पे तुम्हारा मुस्कराना याद है ,
कभी बिन बताये तुम्हारा सब कुछ कह देना ,
कभी कह के भी बात छुपाना याद है..!!


कुछ सुनना चाहते थे हम तुमसे ,
पर तुम्हारा न कह पाना याद है ,
अभी तो मिले भी नहीं थे रस्ते हमारे ,
यूँ एक मोड़ पे राहों का मूड जाना याद है ..!!


चाहा था एक कहानी बने हमारी ,
मगर पन्नो का अचानक बिखर जाना याद है ,
कहानी न सही अफसाना तो बन गया ,
इस अफसाने का हर एक फ़साना याद है ..!!

मेरी अठखेलियाँ

मेरी अठखेलियाँ मेरा स्वभाव था
उतावलेपन में नहीं ठहराव था
मेरी लौ में जलते नेत्र नहीं हैं अब
मेरा रिक्त हो जाना ही तो सही है अब
जब मेरे मोम के शरीर को गंगा में तिराना तुम
तनिक अफ़सोस नहीं करना, आंसू न बहाना तुम
खुशबुओं से तृप्त मोम के टुकड़े और मिलेंगे
मेरी जर्जरता से रिक्त सूर्यांश और मिलेंगे
चलती हूँ मुसाफिर हूँ बड़ी दूर है जाना
एक बुझती लौ अपने नाम किए जाती हूँ
कभी वक्त मिले ग़र , मेरे देस भी आना
तेरे देस की यादें मैं साथ लिए जाती हूँ.
.
.
.
.
.
.
.
Meri athkheliyan mera svabhav tha
Utavlepan men nahin thahrav tha
Meri lou men jalte netra nahin hain ab
Mera rikt ho jana hi to sahi hai ab
Jab mere mom ke sharir ko ganga men tirana tum
Tanik afsos nahin karna, ansu na bahana tum
Khushbuon se tript mom ke tukde aur milenge
Meri jarjarta se rikt suryansh aur milenge
Chalti hun musafir hun badi dur hai jana
Ek bujhti lou apne nam kiye jati hun
Kabhi vakt mile gar , mere des bhi ana
Tere des ki yaden main sath liye jati hun....

ये हम क्या बना बैठे?

हमें एक घर बनाना था ये हम क्या बना बैठे?
कहीं मंदिर बना बैठे, कहीं मस्जिद बना बैठे..
होती नहीं फिरकापरस्ती परिंदों में क्यूँ?…
कभी मंदिर पे जा बैठे, कभी मस्जिद पे जा बैठे…

Hamein ek ghar banana tha ye ham kya bana baithe?
Kahin mandir bana baithe, kahin masjid bana baithe..
Hoti nahin firkaparasti parindon mein kyun?…
Kabhi mandir pe ja baithe, kabhi masjid pe ja baithe…

यूँ न तड़पाओ प्रिये..!!

आज मुझे यूँ आधा-अधूरा सा छोड़ दिया
आज मुझे यूँ थोड़ा सा छू कर छोड़ दिया
मैं जानती हूँ ये बदन अब हमारे मुरझाने लगे हैं..
मगर दिल के अरमान जलाने लगे है..
कभी तो जी भर के चाहो मुझे..
जिंदगी का एक पूरा दिन तो दे दो मुझे..
प्यासा न रह जाए ये सागर कहीं.
अपने प्यार के सावन में नहला दो मुझे...
सांझ होने से पहले बरस जाओ तुम..
जिंदगी तमाम होने से पहले..
बदली सी बन के गुज़र जाओ तुम...!!
कोई शिकवा न रहे सागर को..
जिंदगी से रुखसत होते हुऐ॥
तडपे न वो फ़िर किसी के लिए..
जन्मों से प्यासी रूह को तृप्त हो जाने दो..
प्यासे सागर की प्यास बुझ जायेगी..
तनहा सागर की तन्हाई मिट जायेगी..
भटकती रूह को नई जिंदगी मिल जायेगी...!!
एक तुम ही तो महासागर हो मेरे
मैं तो निरीह नदिया हूँ जो...
बहती है बस तुमारे लिए...
आज यूँ आधा -अधूरा न छोड़ जाओ मुझे..
छू कर मुझे यूँ न तड़पाओ प्रिये..!!
Aj mujhe yun adha-adhura sa chhod diya
Aj mujhe yun thoda sa chhu kar chhod diya
Main janti hun ye badan ab hamare murjhane lage hain..
Magar dil ke arman jalane lage hain..
Kabhi to ji bhar ke chaho mujhe..
Zindagi ka ek pura din to de do mujhe..
Pyasa rah jaye ye sagar kahin.
Apne pyar ke savan men nahla do mujhe..
Sanjh hone se pahale baras jao tum..
Zindagi tamam hone se pahale..
Badali si ban ke guzar jao tum...!!
Ki shikva na rahe sagar ko..
Zindagi se rukhsat hote huye.
Tadpe na vo fir kisi ke liye..
Janmon se pyasi ruh ko tript ho jane do..
Pyase sagar ki pyas bujh jayegi..
Tanaha sagar ki tanhai mit jayegi..
Bhatakti ruh ko nayi jindagi mil jayegi...!!
Ek tum hi to mahasagar ho mere
Main to nirih nadiya hun jo...
Behti hai bas tumhare liye...
Aj yun adha -adhura na chhod jao mujhe..
Chhu kar mujhe yun na tadpao priye..!!

जिस्म सन्दल, मिज़ाज फूलों का

जिस्म सन्दल, मिज़ाज फूलों का
रात देखा है, ताज फूलों का

उसकी खुश्बू , उसी की यादें हैं
मेरे घर में है, राज फूलों का

हुस्न के, नाज़ भी उठाता है
इश्क़ को, इहतियाज फूलों का


नफ़रतों को, मिटा हैं सकते गर
आग को दें, इलाज फूलों का

थक गये राग-ए-गम को गा-गा कर
साज़ छेड़ा है, आज फूलों का

हो न हिंदू, न हो कोई मुस्लिम
बस बने इक, समाज फूलों का

लाई मैं भी मोगरे की लड़ी
लौट आया, रिवाज फूलों का.....






Jism sandal, mijaz phulon ka
Rat dekha hai, taj phulon ka

Uski khushbu , usi ki yadein hain
Mere ghar mein hai, raj phulon ka

Husn ke, naz bhi uthata hai
Ishq ko, ihtiyaz phulon ka

Nafraton ko, mita hain sakte gar
Aag ko dein, ilaj phulon ka

Thak gaye rag-e-gam ko ga-ga kar
Saz chheda hai, aj phulon ka

Ho na hindu, na ho koi muslim
Bas bane ik, samaj phulon ka

Layi main bhi mogre ki ladi
Laut aaya, rivaz phulon ka....

शेरो-शायरी--1

पहले तो अपने दिल की रजा जान जाइए
फिर जो निगाह-ए-यार कहे, मान जाइए
- कतील शिफाई





कैसे कह दूं कि मुलाकात नहीं होती है
रोज मिलते हैं मगर बात नहीं होती है
- शकील बदायूंनी





ये आरजू ही रही कोई आरजू करते
खुद अपनी आग में जलते जिगर लहू करते
- हिमायत अली शायर





हम रातों को उठ-उठ के जिनके लिए रोते हैं
वो गैर की बाहों में आराम से सोते हैं
- हसरत जयपुरी




कोई शाम आती है तुम्हारी याद लेकर,

कोई शाम आती है तुम्हारी याद लेकर,

कोई शाम जाती है तुम्हारी याद देकर,

हमे तो इंतजार है उस शाम का,

जो आए तुम्हे साथ लेकर..........

हसते हो आप लेकिन,

हर हसी का मतलब इकरार नही होता,

रोते हो आप लेकिन,

हर रोने का मतलब इनकार नही होता,

मिलती है हजारों नजरोंसे नजर लेकिन,

हर नजर का मतलब प्यार नही होता......

मत करो कोई वादा जिसे नीभा ना सको,

मत चाहो उसे जिसे तुम पा ना सको,

प्यार कहां किसीका पुरा होता है?

प्यार का तो पहिला अक्षर ही अधुरा होता है....

मुस्कुराकर जीना जींदगी है,

मुस्कुराकर गम भुलाना जींदगी है,

जीतकर हसे तो क्या हसे,

सब कुछ हारकर मुस्कुराना ही जींदगी है

लड़कियां बदल जाती हैं, लड़के नहीं बदलते ! (Joke)

एक लड़का एक लडकी के साथ बैठा था.
दूसरे दिन दूसरी लडकी के साथ साथ देखा गया.
तीसरे दिन कोई और लडकी थी.
चौथे दिन किसी नई लडकी के साथ था.

Moral : लड़कियां बदल जाती हैं, लड़के नहीं बदलते !

====== Hindi SMS =========


====== Hindi SMS =========


आती हे याद तो कतराते क्यूं हो,

करते हो प्यार तो शर्माते क्यूँ हो.

आज भी मौका है हवाओं का रुख मोड़ दो,

जो भी हो अंजाम उसे खुदा पे छोड़ दो.

Aati he yad to ktrate kyn ho,

Krte ho pyar to shrmate kyun ho.

Aj bhi mauka hai hawaaon ka rukh mod do,

jo bhi ho anjam use khuda pe chod do.

====== Hindi SMS =========

तेरे घर के दीपक में जल रहा है मेरा वजूद,

भूल के भी समझना मुझे बेगाना तुम.

मेरे पास काँटों भरे गुलाब के सिवा कुछ भी नहीं,

उससे भूल कर भी सीने से लगाना तुम.

Tere ghar ke deepak mai jal raha hai mera wajood,

bhul ke bhi na samjhna mujhe begana tum.

mere paas kanto bhare gulaab ke siva kuch bhi nahi,

usse bhul kar bhi seenay se na lagana tum.

====== Hindi SMS =========

मेरा क्या है एक रोज़ जहाँ से रुखसत हो जाऊंगा,

मेरे बाद आँखों से मोती बहाना तुम.

तेरे बिना जिन्दा लाश हूँ मुझे कोई एहसास नहीं,

छूकर मेरे जिस्म को कोई नयी आस जगाना तुम.

Mera kya hai ek roz jahan se rukhsat ho jaunga,

Mere baad na aankho se moti bahana tum.

Tere bina jinda laash hun mujhe koi ehsaas nahi,

Chhukar mere jism ko koi nayi aas na jaganaa tum.

====== Hindi SMS =========

दिल से दिल के बीच कोशिश से पुल बनाया जाये

प्यार को जोड़-तोड़ की कोशिशों से उभरा करो.

शबनमी हवा है, दीवानों की बस्ती है,

यह प्यार होता है खामोश, यह शोर दोबारा करो.

Dil se Dil ke beech koshish se pool banaya na jaye

Pyar ko jod-tod ki koshishon se ubhara na karo.

Shabnami hawa hai, Diwanon ki basti hai,

yeh Pyar hota hai khamosh, yeh shor dobara na karo.

========== Hindi SMS ============ =

कुछ बीते पल की यादें सजाये रखना,

कुछ आनेवाले पल से आरजू लगाये रखना.

ये पल तो युहीं आते जाते रहेंगे,

बस होठों पे अपने मुस्कराहट बनाये रखना!

Kuch beete pal ki yaaden sajaye rakhna,

kuch anewale pal se arzu lagaye rakhna.

Ye pal to yuhi ate jate rahenge,

bas hoton pe apne muskurahat banaye rakhana!

========== Hindi SMS ============ =

तन्हाई की ये कुछ ऐसी अजब रात है,

तुझसे जुड़ी हुयी हर याद मेरे साथ है.

किस कदर की थी मोहबत हमने तुमसे,

सोच कर हुई आज अश्कों से मुलाक़ात है.

Tanhayi ki ye kuch aisi ajab raat hai,

Tujhse judi huyi har yaad mere saath hai.

Kis kadar ki thi mohabat humne tumse,

Soch kar huyi aaj ashqon se mulaqat hai.

========== Hindi SMS ============ =

क्यूँ बंद हो गयी SMS की बहार?

क्यूँ हो गयी हमसे ऐसी तकरार?

क्यूँ बेगाने हो जाते है यार?

अगर दिल में हो प्यार,

तो भेजो SMS मेरे यार.

Kyun band ho gayi SMS Ki bahaar?

Kyun ho gayi hamse aisi takrar?

Kyun begaane ho jaate hai yaar?

Agar dil mein ho pyar,

to bhejo SMS mere yaar.

========== Hindi SMS ============ =

फ़िक्र इतनी है उस खुदा को तुम्हारी,

उसने भेज दी तुम्हारे लिए दुनिया सारी.

1 आसू भी आने देंगे दोस्त तेरी आँखों में,

उस खुदा से ज्यादा फ़िक्र हमे है तुम्हारी.

Fikr itni hai us khuda ko tumhari,

usne bhej di tumhare liye duniya sari.

1 aasu b na ane denge ae dost teri ankho me,

us khuda se jyada fikr hume hai tumhari.

========== Hindi SMS ============ =

सारी दुनिया की मुस्कान तेरे पास है,

ये ज़मीन और आसमान तेरे पास है.

ग़म नहीं करना दोस्त की तुझे याद नहीं करता,

मेरी तो जान तेरे पास है.

Saari duniya ki muskaan tere paas hai,

ye zameen aur aasmaan tere paas hai.

Gham nahi karna e dost ki tuje yaad nahi karta,

meri to jaan tere paas hai.

शेरो-शायरी

शेरो-शायरी

ये शबे फिराक ये बेबसी, हैं कदम-कदम पे उदासियां
मेरा साथ कोई न दे सका, मेरी हसरतें हैं धुआं-धुआं
- हसन रिजवी





हमको तो गर्दिश-ए-हालात पे रोना आया
रोने वाले तुझे किस बात पे रोना आया
- सैफुद्दीन सैफ





हर शम्आ बुझी रफ्ता रफ्ता हर ख्वाब लुटा धीरे - धीरे
शीशा न सही पत्थर भी न था दिल टूट गया धीरे - धीरे
- कैसर उल जाफरी





अय मौत, उन्हें भुलाए जमाने गुजर गए
आजा कि जहर खाए जमाने गुजर गए
- खुमार बाराबंकवी




भीगी आँखों से

भीगी आँखों से मुस्कराने में मज़ा और है,
हसते हँसते पलके भीगने में मज़ा और है,
बात कहके तो कोई भी समझलेता है,
पर खामोशी कोई समझे तो मज़ा और है...!
मुस्कराना ही ख़ुशी नहीं होती,
उम्र बिताना ही ज़िन्दगी नहीं होती,
दोस्त को रोज याद करना पड़ता है,
क्योकि दोस्त कहना ही दोस्ती नहीं होती.
आपके पास दोस्तों का खजाना है,
पर ये दोस्त आपका पुराना है,
इस दोस्त को भुला ना देना कभी..
क्यूँ की ये दोस्त आपकी दोस्ती का दीवाना है

Video -Animal Talent - nice video

video
Video -Animal Talent - nice video


Funny Video: Family of a Dog, Cat and Chicks

video
Funny Video: Family of a Dog, Cat and Chicks


Funny Video - Beer Advertisement

video
Video - Beer Advertisement


Video: Copy Cat - Dont try to imitate

video
Video: Copy Cat - Dont try to imitate


Video - Handicap Parking Only

video
Video - Handicap Parking Only


Video: Beautiful Fish movement - enjoy

video
Video: Beautiful Fish movement - enjoy


funny video - Talking Photo Booth

video
Video - Talking Photo Booth


Tuesday, December 22, 2009

प्रेम से ज़िंदगी की

प्रेम से ज़िंदगी की जड़ों को जमाईए
काम से नित नए फूलों को सजाईए
प्रेम एक भाव है जो तैरता मन में
काम एक वेग है उससे तैर जाईए
प्रेम तो धड़कनों संग रहे चलता सदा
काम के वेग से धुन नई बजाईए
प्रेम सँवरकर जब खूब निखर जाए
काम के संग जीवन को सजाईए
प्रेम एक बीज है तो वृक्ष है काम
प्रेम खुश्बू है जीवन को महकाईए
काम एक रूप है जीवन का है फल
कभी होठों, कभी दॉतों से खा जाईए
सरगमी धुन है प्यार ढोलक थाप है काम
प्यार के सुर में काम को बजाईए
प्रेम और काम तरन्नुम हैं इस दुनिया के
हॉथ में हॉथ लिए खुलकर तो गाईए.

Prem se zindagi ki jadon ko jamayiye
Kaam se nit naye phoolon ko sajayiye
Prem ek bhaw hai jo tairta man mein
Kaam ek veg hai usase tair jayiye
Prem to dhadkanon sang rahe chalta sada
Kaam ke veg se dhun nayi bajayiye
Prem sanwar kar jab khoob nikhar jaye
Kaam ke sang jiwan ko sajayiye
Prem ek beez hai to vriksh hai kaam
Prem khushboo hai jiwam mahkayiye
Kaam ek roop hai jiwan ka hai fal
Kabhi hothon, kabhi daanto se kha jayiye
Sargami dhun hai pyar kaam hai dholak ki thaap
Pyar ke sur se kaam ko bajayiye
Prem aur kaam tarannum hain ees duniya ke
Hanth mein hanth liye khulkar to gaayiye.

ख्वाब सजाये इन पलकों में

ख्वाब सजाये इन पलकों में, तेरी यादों के सहारे चल दिए,
मंजिलों के काफी करीब, तुमसे काफी दूर चल दिए,
ये न सोचना सनम, हम वफ़ा न कर सके,
तेरी चाहत पाने के लिए ही, तुमसे दूर चल दिए ....
लौटकर आऊंगा तेरे पास जिस दिन, डोली में बिठाकर सपनो के आशियाने में ले जाऊंगा,
छट गए है बादल नाकामी के, रुसवाई अब न कर सकेगा जमाना,
सजेगी मेहंदी तेरे हाथों में, घोड़ी चढ़ बारात तेरे आँगन लेकर आऊंगा,
भरकर मांग तेरी, अपने आशियाने ले जाऊंगा.....

ये माना कुछ खता हुयी है हमसे,

ये माना कुछ खता हुयी है हमसे,
गलतफहमी में, कुछ गलतिया हुयी है हमसे,
पर दोष नहीं हमारा इतना, जितना तुम्हारा था,
प्यार में हमने भी, खाई है ठोकरे,
याद आता है वो, सुनहरा पल,
साथ जब हमारे, तुम होती थी हरपल,
वो तेरा शरमाकर, पलट जाना खिडकियों से,
वो अखियों से, इशारों में इकरार करना तेरा,
जिन्दगी की खिली धुप में, छाव थी तुम,
रात की चांदनी में, मेरा सुकून थी तुम,
साये की तरह, हरपल साथ थी तुम,
मैं शरीर, मेरी आत्मा थी तुम,
क्यों ये दूरियां हुयी, क्यों ये फासले हुए,
क्यों अब उन खिडकियों पर, सुनी मेरी नजरें टिकी है,
आस में तेरे, क्यों ये दिल रोता रहता है,
शायद आज भी इसे, तेरी पलटने का इरादा है,
बस इतना कहना है आज, तुझसे मेरे मीत,
की आज भी, उन खिडकियों पर, इंतज़ार मेरा है,
प्यार के उन पलों में, एहसास तेरा है,
इस दिल में, आज भी इंतज़ार तेरा है ....
वो बिसरी यादें रुला जाती है .....
अब इस दिल में, बची हर सांस,
तेरे लौटने के इंतज़ार में, बचा रखी है ............

साझा-साझा प्यार

साझा-साझा प्यार चल रहा
टुकड़े-टुकड़े यार मिल रहा
किसी की कोई ख़ता नहीं
ऍसे ही अब संसार चल रहा
किसी एक पर कुर्बान ज़िंदगी
ठहरती नहीं पर कहीं बंदगी
चाहत का सिलसिला कह रहा
इंसान ख़ुद में मुसलसल ना रहा
हर कोई चाहे चॉद की दुनिया
लूटे जा रहा है कोई दुनिया
आईने पर भी एतबार ना रहा
कहीं टिक जाए वह प्यार ना रहा.

Sajha-Sajha pyar chal raha
Tukade-Tukade yaar mil raha
Kisi ki koi khata nahin
Aise hi ab sansar chal raha
Kisi ek par kurban zindagi
Tharati nahin par kahin bandagi
Chahat ka silsila kah raha
Insan khud mein musalsal na rah
Har koi chahe chand ki duniya
Loote ja raha hai koi duniya
Aaieney par bhi aitbar na raha
Kahin tik jaye woh pyar na raha.

फ्रेंड शिप एस एम् एस

फ्रेंड शिप एस एम् एस

कहीं ना कहीं बातों की अदा है दोस्ती
हर गम की सिर्फ इक दवा है दोस्ती
सिर्फ कमी है महसूस करने वालों की
महसूस करो तो जमीं पे जन्नत है दोस्ती।
गमों को बेचकर खुशी खरीद लेंगे
ख्वाबों को बेचकर जिंदगी खदीद लेंगे
होगा इम्तिहान तो दुनिया देखेगी
हम अपनी बोली लगाकर आपकी दोस्ती ले लेंगे।
फिजा में बहारों के संवरने से पहले
आसमान में सितारों के बिखरने से पहले
हमने खुदा से मांगी थी दोस्ती आपकी
इस जमीन पर उतरने से पहले
एक दिन प्यार और दोस्ती मिले,
प्यार ने दोस्ती से पूछा-
मेरे होते हुए तुम्हारा यहां क्या काम है?
दोस्ती बोली- मैं उन होंठों पे मुस्कान लाती
हूं जिन पें तुम आंसू दे जाते हो।
जो पल-पल चलती रहे- जिन्दगी
जो हर-पल जलती रहे- रोशनी
जो पल-पल खिलती रहे- मोहब्बत
जो किसी पल साथ न छोडे- दोस्ती।
दोस्ती नाम है जिन्दगी का,
शुरू विश्वास से होती है
इससे बढकर कोई नाता नहीं,
खत्म आखिरी सांस पे होती है।
फ्रैडशिप ऐसा नेटवर्क है जिसको
ना रिचार्ज की जरूरत होती है न रोमिंग की
न वेलीडिटी लिमिट की, न एक्टिवेशन की,
न इसे सिग्नल प्रोब्लम होती ह।
और न बैटरी डिस्चार्ज होने की समस्या
फैंडशिप तो लाइफ टाइम इनकमिंग है।
नजर तुम्हारी, नजर हमारी,
नजर ने दिल की नजर उतारी
नजर ने देखा नजर को ऐसे कि
नजर दोस्ती को लगे ना हमारी।
दोस्ती का पहला पैगाम आफ नाम,
जिदंगी की आखरी सांस आप्के नाम
रहे सलामत यह दोस्ती अपनी,
इसे सलामत रखना आपका काम।
लोग मिलते हैं एवरी टाइम,
पसंद आते हैं सम टाइम
दोस्ती है वन टाइम,
जो रहती है लाइफ टाइम।
ख्वाबों में आने वाले तेरा शुकि्रया,
दिल को बहलाने वाले तेरा शुकि्रया
क्यों करता है इस जमाने में किसी से दोस्ती इतनी,
हमें दोस्त कहने वाले तेरा शुकि्रया।
दोस्ती का रिश्ता अनोखा है
ना गुलाब सा है ना कांटो सा
दोस्ती का रिश्ता तो उस डाली की तरह है जो
गुलाब और कांटे दोनो को एक साथ जोडे रखता है आखरी दम तक।
आपकी दोस्ती को ईमान मानते हैं,
निभाना अपना ईमान मानते हैं
हम वो नहीं जो दोस्ती में अपनी जान दें
क्योकि दोस्तों को हम अपनी जान मानते हैं।
तुम्हारी इस अदा का क्या जवाब दूं,
अपने दोस्त को क्या दुआ दूं
कोई अच्छा सा गुलाब होता तो किसी से मंगवाता,
जो खुद गुलाब है उसको क्या गुलाब दूं।
हम कितने भी दूर रहे, पर
दोस्ती के सिलसिले कभी कम नहीं होगे
तुम जहां भी हो पलटकर देखना,
तुम्हारे साये की जगह हम ही होगे।
कोई दोस्त ऐसा बनाया जाए
जिसके आसुंओ को पलको में छुपाया जाए
रहे उसका और मेरा रिश्ता ऐसा कि अगर वो रहे उदास तो
हमसे भी ना मुस्कराया जाए।
मजबुर हम नही कि उनको भूल जाएं
खिलौना हम नहीं कि यूं ही टूट जाएं
दुआ से खरीदा है हमने अपनी दोस्ती को
दौलत से नहीं कि कही रखकर भूल जाएं।
जो चीज मांगकर मिले वो मन्नत है
चाहकर मिले वो चाहत है
पास हो तो अमानत है
दिल से मिले वो रहमत है
पर आप जैसा दोस्त मिले वो हमारी किस्मत है।

1